Sri Krishna Janmashtami in Hindi

Sri Krishna Janmashtami in Hindi

कृष्ण जन्माष्टमी भगवान श्री कृष्ण के जन्म के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। श्री कृष्ण भगवान जी ने, भगवान विष्णु के आठवे अवतार के रुप में धरती पर जन्म लिया था। भगवान श्री कृष्ण भगवान के अनेक नाम है जैसे गोविंद, कन्हा, गोपाल, बालगोपाल आदि। इस दिन भक्तजन पुरे दिन भगवान श्री कृष्णा जी का व्रत करते है। रात को 12 के बाद कृष्ण जन्म के बाद अपना व्रत तोडते है।

Sri Krishna Janmashtami in Hindi

श्री कृष्णा जन्माष्टमी

श्री कृष्ण जन्माष्टमी का शुभ मुहरत

  1. श्री कृष्ण जन्माष्टमी – 2 सितम्बर 2018 (कृष्ण पक्ष की अष्टमी)
  2. शुभ मुहरत – रात 12 बज कर 02 मिनट से लेकर 12 बज कर 50 मिनट तक(3 सितम्बर)
  3. कुल समय – 48 मिनट

श्री कृष्ण जन्माष्टमी के लिये पूजन सामाग्री

  1. श्री कृष्ण – राधा की एक प्रतिमा
  2. छोटा सा लकडी का झुला
  3. दही (एक कटोरी)
  4. दूध (एक कटोरी)
  5. शहद (एक कटोरी)
  6. कपूर (3 से 4)
  7. धूप ( एक पकैट)
  8. अगरबत्ती (एक पकैट)
  9. हवन सामाग्री (एक बडा पकैट)
  10. गंगाजल (एक छोटी बोतल)
  11. एक लाल रंग का कपडा
  12. केले (3 से 4)
  13. मिठाई
  14. दिया (एक)
  15. चावल (थोड़े से)
  16. रोली (छोटा पकैट)
  17. हल्दी
  18. कलावा
  19. घी (एक छोटा डब्बा)

श्री कृष्ण जन्माष्टमी की पूजा के लाभ

आइये जानते है श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर भगवान श्री कृष्ण की पुजा अर्चना करने से क्या लाभ होते है।

  1. श्री कृष्ण जन्माष्टी की पूजा से अनेक प्रकार के पापों से मुक्ति मिलती है।
  2. मान्यता है जो शादिशुदा महिलाये इस दिन कठिन व्रत रखती है उनके यहां भगवान श्री कृष्ण जैसा बालक पैदा होता है।
  3. जिन कन्याओं की शादी नही होयी है उन्हें अति प्रेम करने वाला पति मिलता है।
  4. घर में उपस्थित नकारात्मक ऊर्जा का धीरे धीरे नाश होने लगता है।

मृत्यु के पश्चात् मोक्ष की प्राप्ति होती है। जन्म जन्मांतर के चक्र से मुक्ति मिल जाती है।

Krishna Janmashtami