What is Rudraksha Mala? Uses and Benefits

rudraksha mala

हिन्दू धर्म में मान्यता है कि रूद्राक्ष का अर्थ है रूद्र यानि शिव की आंख से गिरा आंसू। भगवान  शिव जब एक बार गहरी तपस्या से बाहर आए। तब उन्होंने अपनी आंखें खोलीं तो उनकी आँखों में से कुछ आंसू की बूंदे धरती पर आ गिरी। उन्ही आंसू की बूंदों से रुद्राक्ष के वृक्ष उत्पन्न हुए। रूद्राक्ष स्वयं भगवान शिव का ही रूप हैं। रुद्राक्ष धारण करने वाले मनुष्य को लहसुन, प्याज, नशीले भोज्य पदार्थों और मांसाहार आदि का सेवन नहीं करना चाहिए। रुद्राक्ष को अमावस्या, सक्रांति, पूर्णिमा और शिवरात्रि के दिन धारण करना बेहद शुभ माना जाता है।

rudraksha mala

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार रुद्राक्ष से बनी माला को मंत्र जाप के लिए सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। रुद्राक्ष को महादेव का प्रतीक माना गया है। ऐसा कहा जाता है की रुद्राक्ष में सूक्ष्म कीटाणुओं को नष्ट करने की शक्ति होती है। रुद्राक्ष  हमारे आसपास मौजूद सकारात्मक ऊर्जा को ग्रहण करता है और साधक के शरीर में पहुंचाता है। सदियों से ही तपस्वी और साधु-संत रुद्राक्ष माला को धारण करते आये है।

रुद्राक्ष माला के लाभ

  • रुद्राक्ष माला धारक को नकारात्मक ऊर्जा से बचाने के लिए एक कवच की तरह काम करती है।
  • रुद्राक्ष के 108 दानों की माला धारण करने से अश्वमेघ यज्ञ जितना पुण्य प्राप्त होता है।
  • शिव महापुराण और पद्म पुराण के अनुसार, रुद्राक्ष माला को पहनने से धारक को शिव लोक की प्राप्ति होती है।
  • रुद्राक्ष की माला को धारण करने से व्यक्ति की आध्यात्मिक तरक्की होती है।
  • रुद्राक्ष की माला पहनने वाले को सांसारिक समस्याओं और दुखों से मुक्ति मिलती है।
  • यह माला धारण करने से ब्लडप्रेशर नियंत्रित रहता है। साथ ही मानसिक शांति की प्राप्ति होती है।
  • इस माला को धारण करने से भूत-प्रेत आदि समस्यायें दूर होती हैं।

किसी भी जानकारी के लिए निचे दिए गए फॉर्म से अपनी डिटेल भेजे हम आपको संपर्क करेंगे ।