Kamala Sadhna

Kamala Sadhna

कमला

कमला माता को लक्ष्मी का ही रुप माना जाता है। मां कमला साधक को धन व ऐश्वर्य प्रदान करती हैं। ये दस महाविद्याओं में दसवें स्थान पर हैं। सिद्धविद्यात्रयी में कमला माता को तीसरा स्थान प्राप्त है। इनकी उपासना दक्षिण और वाम दोनों मार्ग से की जाती है।

इनका वर्ण स्वर्ण जैसी आभा देने वाला है। गजराज सूंड में सुवर्ण कलश लेकर मां को स्नान कराते हैं।  कमल पर आसीन हुए मां स्वर्ण से सुशोभित हैं।

Kamala Sadhna

इनकी साधना द्वारा साधक धनी और विद्यावान बनता है। व्यक्ति को यश और सम्मान की प्राप्ति होती है, चारों पुरुषार्थों को प्रदान करने वाली माता कमला साधक को समस्त बंधनों से मुक्त कर देती हैं।

माँ कमला धन संपदा की आधिष्ठात्री देवी है, भौतिक सुख की इच्छा रखने वालों के लिए इनकी अराधना सर्वश्रेष्ठ मानी जाती हैं।

 कमला की साधना से लाभ

  • कमला माता साधना खासतौर पर कारोबारियों और व्यापारियों के लिए बहुत लाभदायक रहती है। इस पूजा से साधक की सभी आर्थिक परेशानियों का हल सहजता से ही निकल जाता है।
  • कमला माता अपने भक्तों को कभी खाली हाथ नहीं लौटातीं और उनके जीवन के आर्थिक कष्टों को दूर करती हैं।
  • कमला माता साधना करने से जीवन में शांति प्राप्त होती है, और घर में खुशियां बनी रहती हैं। 
  • उनकी उपासना से जीवन में सुख, समद्धि, ज्ञान, ऐश्वर्य और शांति प्राप्त होती है। 

 

कमला माता  को प्रसन्न करने और उनका आशीर्वाद लेने के लिए यह साधना शुक्रवार के दिन से प्रारम्भ  करने से लाभकारी माना गया है। सर्वप्रथम इस  दिन प्रातः काल उठे, स्नान-ध्यान से निवृत होकर नया वस्त्र  धारण करे और कमला माता  की मूर्ति या तस्वीर स्थापित करे और माँ को  लाल पुष्प, लाल अक्षत तथा लाल फल अर्पित करे और माँ के सामने इस मंत्र कोए पढ़ना चाहिए ।

कमला माता  की साधना मंत्र – “ॐ हसौ: जगत प्रसुत्तयै स्वाहा:”

 

कमला  माता साधना करने के लिए आप हमसे संपर्क कर सकते है या ऊपर दी गई ईमेल आईडी पर ईमेल कर सकते है।