Business Problem Solution

business-problem-solution

व्यापार एक ऐसा शब्द है जो हर किसी की ज़िन्दगी से जुड़ा है, कोई व्यापारी है, तो कोई व्यापारी के पास काम करने वाला, सब कही न कही व्यापार शब्द से जुड़े हैं ।

व्यापार की समस्या कही न कही सबको परेशान करती है, क्या है इस समस्या की वजह ? कैसे करे इसका समाधान?

वैसे तो व्यापार मै वृद्धि न होने के बहुत से कारण है ,पर कुछ ऐसे विशेष कारण है जिन पर हम कभी ध्यान नहीं दे पाते है ।

अगर आपका खुद का व्यापार होने के बावजूद भी आप की वृद्धि नहीं हो पा रही है और दिन पर दिन एक नई समस्या आती जा रही है, व्यापार होने के बावजूद भी अगर आपका कर्ज है ,तो क्या है इसका कारण ?

  • तो कैसे करें व्यापार के इन कष्टों को दूर?
  • कैसे करें व्यापार में उन्नति?
  • कैसे पाएं अपनी रोज की समस्या का समाधान?

सभी यह तो जानते है की माँ लक्ष्मी और कुबेर जी की आराधना से व्यापार मै आ रहे कष्टों को दूर करते है, पर वो यह नहीं जान पाते की उनकी इतने प्रयासों के बावजूद भी उन्नति क्यों नहीं हो रही है?

business-problem-solution

गुरु ग्रह (वृहस्पति) जो की हमारे व्यापार की उन्नति  मै बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है हम उन्ही को हमेशा प्रसन्न करना भूल जाते है । वृहस्पति ग्रह व्यापार की वृद्धि मैं बहुत महत्वपूर्ण भूमिका रखतें है जिस प्रकार कुबेर और लक्ष्मी जी रखतें है।

अगर गुरु विपरीत भाव का हो तो हम हमेशा व्यापार से जुडी समस्या आती और इसे व्यापार दोष भी कहा जाता है, अपना व्यापार दोष दूर करने के लिए आप कुछ उपाए कर सकतें हैं जिनसे आपकी व्यापार से जुडी सारी समस्या समाप्त होती है और व्यापार मै वृद्धि होती  है।

  • कैसे करें वृहस्पति ग्रह को प्रसन्न?
  • कैसे समाप्त करें अपना व्यापार दोष?

व्यापार दोष समाप्त करने के उपाए

  • अपना दोष समाप्त करने के लिए भोज पत्र पर कामाख्या सिन्दूर से तोते (पैरेट) की अकीर्ति बनाए और उत्तर की दिशा मै इसे लगाए, रोज माँ कामाख्या के सिन्दूर का 51 दिन तक तिलक करें ।
  • अपने कार्यालय मैं गुरु (वृहस्पति)यंत्र को स्थापित करें।
  • व्यापार वृद्धि के कवच धारण करें जिसमे गुरु का रुद्राक्ष होना बहुत ही महत्व पूर्ण है ।

इन्ही उपायों से आप अपने व्यापार दोष बाधाओ को समाप्त कर सकतें है, और व्यापार में उन्नति प्राप्त कर सकते हैं ।

व्यापार सम्बंधित किसी भी अन्य जानकारी के लिए हमसे संपर्क करे ।