20 Mukhi Rudrakasha

बीस मुखी रुद्राक्ष

बीस मुखी रुद्राक्ष  ब्रह्मा जी का स्वरुप माना जाता है। ब्रह्मा, विष्णु और महेश की शक्तियों के रूप में इस रुद्राक्ष में आठ दिक्पालों, आठ दिशाओं के परमेश्वर और नौ ग्रह भी निहित हैं। बीस मुखी रूद्राक्ष को धारण करने वाला व्यक्ति सत्य का आचरण करता है, ज्ञान एवं मानसिक शांति को पाता है। इस रुद्राक्ष को धारण करने वाले व्यक्ति को  भगवान शिव उन्हें 20 मुखी रुद्राक्ष के साथ आशीर्वाद देते हैं और उसके  पापों का अंत करके व्यक्ति को मोक्ष (मुक्ति) प्रदान करते हैं।

बीस मुखी रुद्राक्ष के लाभ

  • प्राचीन वैदिक ग्रंथों के अनुसार बीस मुखी रुद्राक्ष को उपयोग में लाने से व्यक्ति को भूत, पिशाच, सांप एवं अन्य भयानक वस्तुओं का भय नही सताता. यह रुद्राक्ष बुरी शक्तियों के विरुद्ध संरक्षण का कार्य करता है।
  • इस रुद्राक्ष के पहनने वाले व्यक्ति को भगवान ब्रह्मा, विष्णु और महेश, आठ दिग्गलों और सभी नौ ग्रहों का आशीर्वाद प्राप्त होता है।
  • बीस मुखी रूद्राक्ष के पहनने से ज्ञान, मानसिक शांति और बेहतर दृश्य शक्ति प्राप्त होती है।
  • बीस मुखी रूद्राक्ष ऑनलाइन व्यापार से जुडे़ हुए लोगों के लिए सबसे अच्छा होता है।

 बीस मुखी रुद्राक्ष मंत्र

ॐ नमः शिवाय

रुद्राक्ष धारण करने की विधि 

सर्वप्रथम रुद्राक्ष की माला या रुद्राक्ष, जो भी आप धारण करना चाहते हैं, उसें शुक्ल पक्ष में सोमवार के दिन धारण करें।

रुद्राक्ष को गंगाजल, दूध से स्नान कराएं तथा “ॐ नमः शिवाय” इस पंचाक्षर मंत्र का जाप करते रहें. शुद्ध करके इस चंदन, बिल्वपत्र, लालपुष्प अर्पित करें तथा धूप, दीप  दिखाकर पूजन करके अभिमंत्रित करे।.

रुद्राक्ष को शिवलिंग से स्पर्श कराकर पूर्व या उत्तर की ओर मुख करके मंत्र जाप करते हुए इसे धारण करें।

Fill This Query Form for Call Back